Health Blog

IMG-20170227-WA0030

Do read interesting articles by Dr. Pooja Pathak, Founder and Occupational Therapist, Swavalamban – on Health, Wellness, Lifestyle, Childhood disorders, Parenting, Therapies n many more… Also find latest updates on major Social Issues..

 

Stay Healthy n Keep Reading..!! 🙂 🙂 

Occupational Therapy in Autism Spectrum Disorder

Posted by on Nov 3, 2018 in Swavalamban Blog

Occupational Therapy in Autism Spectrum Disorder

क्या आप जानतें हैं की ऑटिज़्म से पीड़ित ६० से ७० प्रतिशत बच्चों में सेंसरी प्रोसेसिंग इश्यूज भी होते हैं जिसकी वजह से वे अपने आसपास के माहौल से आने वाली सूचनाओं का सम्प्रेषण ठीक से नहीं कर पाते, परिणामस्वरूप उनकी कार्यक्षमता, दक्षता एवं भावनात्मक अतर अन्य बच्चों की अपेक्षा स्लो होता है.

 

 आटिज्म से ग्रसित बहुत से व्यक्ति स्पर्श के प्रति अतिसंवेदनशील होते है, वहीँ कई लोगों का प्रोप्रियसेप्शन अर्थात शारीरिक स्थिति एवं स्थान का अभिविन्यास सेंस कमजोर होता है, sometimes an individual might be undersensitive to pressure which makes them difficult to process & analyse that where they belong to in space and what they are doing.
So, people tries to compensate by indulging in physical activities like climbing, banging themselves on the wall or run round.

 

प्रोप्रियसेप्शन के साथ ही ऑटिज़्म से ग्रसित व्यक्तियों में वेस्टिबुलर इश्यूज भी होते है, which arises problems with balancing & co-ordination. Often, such people will will comfort themselves by giving regular jerks as in rocking, swings, jumping or bumping on toys.! When they do these, in a sensory world that is constantly on the move, they are giving themselves signals that have meaning, so they know what they are doing.

 

ऑक्यूपेशनल थेरेपिस्ट्स विभिन्न प्रकार के प्रोप्रियसेप्टिव एवं वेस्टिबुलर क्रियाओं द्वारा सेंसरी सिस्टम को टारगेट कर इन सभी प्रकार के डिस्टरशंस को नियंत्रित करना सिखातें हैं so that the nervous system become more organised/regulated and therefore assists & enhance attention and performance of an individual.

 

सभी ऑटिस्टिक बच्चों का माइंड और बिहेवियर एक समान नहीं होता हैं, they are hyper or hypo sensitive. people on the spectrum find it difficult to process too much incoming sensory information.

 

इन व्यक्तियों के सेंस ऑर्गन्स तो नार्मल होते हैं, परन्तु इनके मस्तिष्क की प्रोसेसिंग क्षमता सीमित होती हैं, जिस वजह से they face problem in one or more performance area. Children with autism lack the appropriate “filters” to screen out irrelevant information and this can cause meltdown as each input builds and builds without being filtered out appropriately.

किसी भी ट्रीटमेंट प्रोग्राम को प्लान करते समय एक ऑक्यूपेशनल थेरेपिस्ट को अफेक्टेड व्यक्ति की संपूर्ण जीवनशैली के साथ ही उसकी शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक, सामाजिक, सभी प्रकार के एरियाज को ध्यान में रखना पड़ता है. OTs uses Holistic approach while desigining therapeutic plan so that all the Performance Areas of an individual will be covered.

 

In Autism Spectrum Disorder, Occupational Therapist is primarily associated for developing fine-motor co-ordination skills, handwriting training, daily living activities like dressing, grooming, etc. along with focusing on asociated sensory processing disorders, social interaction & communication skills.

 

The aim of sensory integration therapy is to improve the ability of the brain to process sensory information so that the child will function better in his/her daily activities.

 

Thus, through a varied range of Therapeutic activities, Occupational therapist can enhance functions essential for daily skills.. know more at http://swavalambanrehab.blogspot.com/2018/11/occupational-therapy-in-autism-spectrum.html

 

Stay Healthy!

 

Dr. Pooja Pathak
for swavalambanrehab.com

Reach, Listen, Talk: Alzheimer’s Dementia

Posted by on Sep 22, 2018 in Swavalamban Blog

A recent report found that the number of people with Alzheimer’s and related dementia has reached 46.8 million worldwide, a number that may double every 20 years. In India alone, more than 4 million people are diagnosed with some form of Alzheimer’s.

 

 

Keep Your Physical & Mental Health in Check

समस्त विश्व में Alzheimer’s रोग के प्रति जन-सामान्य में जागरूकता लाने तथा इसके उपचार/ रिहेबिलिटेशन प्रोसेस का प्रचार- प्रसार करने के उद्देश्य से सितंबर माह को World Alzheimer’s Month के रूप में मनाया जाता है।

 

 

डिमेंशिया स्वयं एक बीमारी न होकर मस्तिष्क को एफेक्ट करने वाली कई अन्य बिमारियों का लक्षण मात्र होती है (जैसे एल्ज़ीमर्स डिसीज़ या पार्किंसन डिसीज़). एब्नार्मल प्रोटीन्स से बनी हुई प्लाक मस्तिस्क में मौजूद नर्व सेल्स को डेड कर देती है, जिससे दिमाग में सिकुड़न होने लगती है, जो सूचनाओं को प्रवाहित करने वाले नर्व सेल्स को एफेक्ट करती है.

 

इस अवरुद्धता के कारण पीड़ित व्यक्ति की सोचने एवं याद रखने की शक्ति कम होती जाती है.जब ये हिप्पोकैम्पस एरिया पर आघात करती है तब इंसान नयी याददाश्त नही बना पाता है ( अर्थात तब किसी भी प्रकार का सीखा गया नविन कार्य इंसान भूल जाता है, क्यूंकि दिमाग उन निर्देशों को स्टोर नही कर पता है).

 

 

 

डिमेंशिया के कुछ मुख्य लक्षण :

 

– स्मरण शक्ति (याददाश्त ) कमजोर होना

जरुरी घटनाएँ , तिथियाँ , या लोगों के नाम भूल जाना

– कोई भी कार्य या प्रक्रिया करने के कुछ समय पश्चात भूल जाना

दिशाएं/रास्तें भूल जाना

– एक ही प्रश्न बार-बार पूछना

कोई भी नया कार्य करते समय उसके दिशा-निर्देशों को नही समझ पाना

– अंकों से सम्बंधित कार्यों को करने में परेशानी ( बिल भरना, खरीददारी करना)

दैनिक जीवन के कार्य जैसे गाड़ी चलाना, रसोई बनाना आदि में भी दिक्कत होना

– कन्फ्यूज्ड या भ्रमित होना

सामान्य वार्तालाप में परेशानी होना, अपनी बात को ठीक से अभिव्यक्त नही कर पाना, एक ही बात कई बार दोहराना

– स्वयं का सामान रखकर भूल जाना

निर्णय क्षमता प्रभावित होना, एक ही दिन में कई बार स्नान करना, स्वयं का ख्याल नही रखना

– सामाजिक मेल-जोल कम करना, ज्यादा समय घर में ही बिताना

मूडी होना, जल्दी उदास हो जाना

– अन्य लोगों पर अन्यावशयक संदेह करना, भरोसा नही करना

मति-भ्रम होना

 

 

 

Engaging in Physical/ mental workout helps in dementia

डिमेंशिया का कोई निश्चित ईलाज नही है, पर इसके लक्षणों की गति को आगे बढ़ने से रोकने के लिए कुछ मेडिसिन्स, Occupational Therapy, सेंसरी थेरेपी, फैमिली थेरेपी, Group Therapy, आर्ट एंड म्यूजिक थेरेपी, एक्सरसाइजेज, डाइट एवं सही न्यूट्रिशन से पीड़ित व्यक्ति भी अपना सामान्य जीवन व्यतीत कर सकता है.

 

 

 

Dr P Pathak

www.swavalambanrehab.com

Love My Heart, Your Heart!

Posted by on Sep 22, 2018 in Swavalamban Blog

Care & Inspire Each Other for Healthy Heart

Heart is not only one of the most vital organ of body, but till ages it symbolizes love, care n compassion.

Whether a person is happy or sad, excited or depressed, the heart will be affected the most.
Thus, maintaining a good heart health is very important not only for a longer life, but for enjoying a healthy n hearty life.

 

तेज़ी से बदलती हुए जीवन-शैली के परिणामस्वरूप हृदय रोगों की संख्या में भी अत्यधिक इज़ाफ़ा हुआ है, अतः समस्त विश्व में लोगों को हार्ट हेल्थ एवं हृदय रोगों के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य सेWorld Heart Dayका आयोजन प्रतिवर्ष 29 September को किया जाता है.

 

वर्ल्ड हार्ट फाउंडेशन के अनुसार समस्त विश्व में प्रति वर्ष करीब १७ लाख से ज्यादा लोगों की जान किसी न किसी प्रकार के हृदय रोगों की वजह से जाती है जो की That’s a third of all deaths on the planet and half of all non-communicable-disease-related deaths. इनमे से ८०% उन आबादी वाले क्षेत्रों में से है तो की या तो निम्न-मध्यमं वर्ग हैं या फिर जहाँ हृदय रोगों से सम्बंधित चेतना का आभाव hai.

 

 

This observance also inform people about cardiovascular diseases, which is the cause of half of non-communicable disease related death. This day promotes awareness about healthy lifestyle n also about preventative measures to reduce the risk of cardiovascular diseases.

 

My Heart, Your Heart- Let’s Say Yes to Heart Health

The theme for this year isMy Heart, Your Heart” जो हमे एवं हमारे प्रियजनों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए प्रेरित करती है . It also focuses on healthy lifestyle measures which need to be incorporated in everyday life in order to prevent the risk of CVD ( cardio-vascular diseases). It also encourages each of Us to inspire Others about Healthy Heart Habits n keep CVD at bay. पोषक एवं सही आहार, भोजन पकने/बनाने के लिए उचित सामग्री का संतुलित इस्तेमाल, नियमित कसरत और व्यायाम, साथ ही धम्रपान/ तम्बाकू से दूरी- thses are all essential for our good heart health.

 

 

Risk factores for heart disease

Heart related disorders are not only confined to adults, but it can affect any age group.

Children are also vulnerable too. About 1.35 million babies are born with congenital heart disease every year.

Moreover, children may have to face the emotional consequences of seeing a loved one becoming ill with CVD.

 

 

The unhealthy lifestyles that lead to cardiovascular disease often begin in childhood and adolescence, so that prevention of heart disease must begin there. A healthy heart starts from childhood, the best time to adopt heart-healthy behaviors and reduce risks.

 

The risk factors can be eliminated/ prevented by adapting certain lifestyle modification techniques n switching on to a better n healthier lifestyle.

 

 

So, Do Take Good Care of Your Heart.

 

as We Only have…

One Life, One Heart!!!

 

 

Dr. Pooja Pathak

for swavalambanrehab.com

Let’s Talk, Let’s Care Depression

Posted by on Apr 7, 2017 in Swavalamban Blog

Lets Talk, Lets Share. Depression is Curable ( Representational Image only/ pic source - holydayspot)

Lets Talk, Lets Share. Depression is Curable ( Representational Image only/ pic source – holydayspot)

 ना छिपाएं, ना दबाएं – आओ अब खुलकर बताएं.. मानसिक स्वास्थ्य सुदृढ़ बनाये, अवसाद को दूर भगाएं… 

 

Today is World Health Day, n the Theme for this year is ” Depression” which is one of the leading cause of disability all around the globe. डिप्रेशन या अवसाद ना सिर्फ वयस्कों अपितु बुजुर्गों और यहाँ तक की बच्चों को में भी हो रहा है.

 

 

People from all age groups are suffering from it, more than 300 million people are now living with depression, विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार  there is an increase of more than 18% between 2005 and 2015, whereas in South-East Asia region, nearly  86 million people are affected by depression. 

 

 

 

Symptoms of Depression in children are- 
१. बच्चे के दैनिक क्रियाओ में परिवर्तन आना
२. सामाजिक मेल-जोल की कमी होना
३. दोस्तों से कम बात करना
४. ज्यादातर समय अकेले गुमसुम होकर बैठे रहना
५. भूख कम लगना या फिर बहुत ज़्यादा खाना
६. किसी भी काम में मन नहीं लगना
७. पढाई में पिछड़ना

८. निराशावादी बातें करना
९. बात बात में रोना
१०. बहुत कम बोलना
११. खेल और अन्य मनोरंजक गतिविधियों में रूचि कम होना
१२. आत्मविश्वास में कमी होना
१३. नकारात्मक बातें करना
१४. ध्यान केंद्रित नहीं कर पाना
१५. व्यव्हार में चिड़चिड़ापन, गुस्सा या घबराहट होना
१६. नींद में कमी होना या फिर ज़्यादा देर तक सोना
१७. हमेशा थका हुआ प्रतीत होना
१८. रिस्क लेने वाले काम करना
१९. मृत्यु सम्बन्धी बातें करना

 

 

When a depressive state, or mood, lingers for a long time — weeks, months, or even longer — and limits a person’s ability to function normally, it can be diagnosed as depression. 

 

According to a recent study, it has been estimated that nearly 50 millions Indians r suffering from one or other type of Mental Health related issues/disorders. however there is no exact data as people are too shy to discuss these issues. हमारे भारत में आज भी मानसिक स्वास्थ्य संबंधी विषयों को लेकर कितनी हे भ्रांतियां फैली हुई है. महानगरों जहाँ फिर भी बेहतर हालात है, सबसे ज्यादा ख़राब स्तिथी छोटे शहरों एवं कस्बों की है जहाँ न इन विकारों/विषयों के प्रति लोगों में जागरूकता है और न ही किसी भी प्रकार के परामर्श-केंद्र हैं. 

 

 

 

Types of depression in children :
1. major depression
2. dysthymia
3. adjustment disorder with depressed mood
4. seasonal affective disorder
5. bipolar disorder or manic depression

 

 

 

 

Depression is not a sign of weakness. Any person at one or the other time in his/her life will feel low. Depression can be cured completely. All We need is to reach out to each other…

 

 

 

Treatment:

 

सही पोषण आहार, पर्याप्त नींद, अपनी पसंद के कार्य जैसे गार्डनिंग, संगीत, डांस, आर्ट एंड क्राफ्ट वर्क, आदि में अपना वक़्त बिताना, साथ हे परिजनों/दोस्तों के साथ समय बिताना, following a Healthy lifestyle will helps a lot in overcoming Depressive phase. 

 

 

Also engaging in physical- mental workouts, Yoga n Meditation will also relieve from stress. 

 

 

1. Pharmacological Intervention
Antidepressants:
Several classes of antidepressants, including selective serotonin reuptake inhibitors (SSRIs), tricyclic antidepressants (TCAs), heterocyclics (eg, amoxapine, maprotiline), monoamine oxidase inhibitors (MAOIs), bupropion, venlafaxine, and nefazodone, have been used in the treatment of depression.
Selective serotonin reuptake inhibitors (SSRIs)
These are a relatively new group of medicines used to treat emotional and behavioral problems, including depression, panic disorder, obsessive-compulsive disorder, bulimia, and posttraumatic stress disorder in adults. 
2. Cognitive-behavioral therapy
CBT is a type of talk therapy that has been scientifically shown to be effective in treating anxiety disorders. CBT teaches skills and techniques to child to reduce anxiety.
3. Acceptance and commitment therapy
ACT uses strategies of acceptance and mindfulness (living in the moment and experiencing things without judgment) as a way to cope with unwanted thoughts, feelings, and sensations.
4. Dialectical behavioral therapy
DBT emphasizes taking responsibility for one’s problems and helps children examine how they deal with conflict and intense negative emotions.
5. Psychotherapies eg, individual, family, group therapies
6.Social skills training
7. Educational assessment and planning

 

 

 

So, Let’s Talk, Let’s Share n Cure Depression…

 

 

Stay Healthy..!! 

 

 

Dr. Pooja Pathak

 

www.facebook.com/swavalambanchildrenrehab

The Mystery n Traits of Autism

Posted by on Apr 1, 2017 in Swavalamban Blog

 

asd puzzleक्या आप जानते हैं की विश्व स्वास्थ्य संगठन ( WHO) के अनुसार पूरी दुनिया में प्रति १६० बच्चों में से १ बच्चा ऑटिज्म नामक न्यूरोडेवलपमेंटल विकार से पीड़ित हैं।

दिनोंदिन तेजी से इस सामाजिक- मानसिक विकार से ग्रसित बच्चों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। कुछ रिसर्चेस के निष्कर्षों के आधार पर यह सामने आया है की किन्ही अनुवांशिक कारणों एवं प्राकृतिक बदलाव की वजह से यह डिसऑर्डर होता है. 

 

 

जहाँ अमेरिका में यह आंकडा प्रति ६० मे से १ है, ब्रिटेन में १०० में से १, कोरिया में प्रति ३८ में १ है, वहीं हमारे भारत में जागरूकता एवं डायग्नोसिस के अभाव तथा राष्ट्रीय स्तर पर सर्वेक्षण नहीं होने से कोई स्पष्ट आंकडे तो नहीं है, परंतु इंटरनेशनल इपिडेमियोलाजिकल रिसर्च सेंटर (IERC) द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार हमारे देश में भी प्रति १५० से ३०० बच्चों के बीच १ बच्चा ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसआर्डर से ग्रसित है।

Children having Autism face problems in many areas

Children having Autism face problems in many areas

 

वहीं लिंगानुपात के मुताबिक लड़कियों की अपेक्षा लड़कों में यह पॉंच गुना अधिक होता है। आटिज्म एक बहुत विस्तृत विकार है जिसमे की अलग -अलग बच्चों में कई तरह की “टिपिकल” क्रियाएं देखने को मिलती है. 

 

 

 

बच्चों में तेजी से बढ़ते जा रहे इस डिसआर्डर के बारे में जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से संयुक्त राष्ट्र संघ ( United Nations) के तत्वावधान में अप्रैल माह को ऑटिज्म माह के रूप मनाया जाता है, तथा “World Autism Awareness Day” का आयोजन दिनांक २ अप्रैल को किया जाता है। तथा इस विकार से ग्रसित व्यक्तियों के प्रति *संवेदनशीलता दर्शाने के लिए दुनियाभर की प्रमुख इमारतों को “Light It Up Blue” कैंपेन के अंतर्गत नीली रोशनी से सजाया जाता है।

 

 

All children with autism have problems with 3 major areas – 

Social Interaction

Verbal and Nonverbal Communication

Repetitive Behaviors or Interests

 

 

 

ऑटिज्म के लक्षण( Early Signs of Autism Spectrum Disorder)  बच्चे के विकास की प्रारंभिक अवस्था ( ८ माह से पॉंच वर्ष की आयु) से दिखाई देने लगते हैं जैसे –

 

*सामाजिक मेल मिलाप की कमी*, बच्चा ज्यादातर दूसरों से अलग (कट ऑफ) रहना पसंद करता है 

Social isolation in autism ( representational image only -123rf.com)

Social isolation in autism ( representational image only -123rf.com)

 

*लेक ऑफ स्पीच* ( बहुत कम या फिर बिल्कुल ही नहीं बोलना)

*आइ कांटेक्ट नहीं होना/ कम होना* ( दूसरे व्यक्तियों से बात करते वक्त नजर नहीं मिलाना)

अन्य बच्चों की अपेक्षा *स्लो* प्रतीत होना

*परिजनों के प्रति अलूफ रहना*(माता-पिता से कम अटेचमेंट)

*एक ही तरह के खेल खेलना*

बहुत *जिद्दी होना*, भोजन / कपडों में *बहुत सिलेक्टिव* होना

Signs of autism in kids ( image - healthylife)

Signs of autism in kids ( image – healthylife)

अपनी *जरूरतों को एक्सप्रेस नहीं कर पाना*, अन्य व्यक्तियों की feelings/ expressions को नहीं समझ पाना आदि।

*सेल्फ हार्मिंग बिहेवियर* (स्वयं को काटना/ नोचना)

किसी भी प्रकार का डर नहीं होना ( ऊँचाई से गिरने का/ चोट लगने का)

 

 

*अन्य लक्षणों में शामिल हैं*

*एकटक किसी चित्र/ रंग/ रोशनी को देखते रहना*

*अपने हाथों को देखते रहना*

*एक ही स्थान पर गोल गोल घुमना*

Typical traits in Autism ( image- pinterest.com)

Typical traits in Autism ( image- pinterest.com)

*ध्वनियों/ आवाज के प्रति अति-संवेदनशीलता*

*खिलौनों के बजाए बर्तनों/ चाबी/ हेयर कि्लप / औजारों से खेलना*

*पढ़ाई में कमजोर होना*

*अपने आसपास मौजूद वस्तुओं को एक लाइन में जमाने लगना*

*तेजी से कहीं भी उछलने लगना*

*सड़क/ पार्क/ पब्लिक प्लेसेस पर ही जमीन पर लोटने लगना*

*प्लास्टिक/ कागज/ पन्नी/ मिट्टी चबाना*

Autism brain differs in it's neurotransmission _( image- cdn)

Autism brain differs in it’s neurotransmission _( image- cdn)

ऑटिज्म एक गंभीर मस्तिष्क से जुड़ा हुआ विकार है जिसका वर्तमान में कोई निश्चित ईलाज उपलब्ध नहीं है..

 

परंतु अर्ली एज में लक्षणों की पहचान होने एवं विभिन्न प्रकार की रेमेडियल एंव बिहेवियर थैरेपी के द्वारा ऑटिज्म से पीड़ित बच्चे भी समाज की मुख्यधारा में सम्मिलित हो सकते है। 

 

 

 

 

 

Parental Support makes a lot of difference in Autism ( image- healthtips)

Parental Support makes a lot of difference in Autism ( image- healthtips)

Treatment of Autism include certain medications for irritability, hyperactivity, anxiety n depression.

Behaviour Modification Therapy, Occupational Therapy, Sensory Integration Therapy, Special Education, ABA, Play Therapy, Recreational Therapy, Early Intervention Programs are helpful.

 

Children with Autism are unique in themselves, n they can also lead a fruitful life. 

 

 

So it is very important to have understanding regarding the typical signs which the children with Autism shows.. 
Always remember that these children will need your support, understanding and encouragement in every sphere of their lives…

 

 

Stay Healthy.. 

 

 

Dr. Pooja Pathak

 

www.facebook.com/swavalambanchildrenrehab 

F
F
Twitter
swavalambanrehb on Twitter
58 people follow swavalambanrehb
Twitter Pic drwillia Twitter Pic SEOServi Twitter Pic viscaref Twitter Pic bbangdel Twitter Pic NehaPat5 Twitter Pic vikasman Twitter Pic devon_ch Twitter Pic Supitapi
F
F
F
pinterest button
error: Content is protected !!