Health Blog

IMG-20170227-WA0030

Do read interesting articles by Dr. Pooja Pathak, Founder and Occupational Therapist, Swavalamban – on Health, Wellness, Lifestyle, Childhood disorders, Parenting, Therapies n many more… Also find latest updates on major Social Issues..

 

Stay Healthy n Keep Reading..!! 🙂 🙂 

Pica – महँगी पड़ेगी यह आदत

Posted by on Mar 18, 2017 in Swavalamban Blog

Pica – महँगी पड़ेगी यह आदत

क्या आपका बच्चा कोई भी वस्तु मुँह में डालता है??

क्या बच्चा कागज/ पन्नी/ प्लास्टिक/ क्ले/ पेन/ क्रेयॉन्स आदि मिलने पर उन्हें चबाने लगता है??

अगर हॉं तो the

pica if neglected leades to serious health problems (image- dailymail.co.uk)

pica if neglected leades to serious health problems (image- dailymail.co.uk)

child is having a disorder called Pica.

 

It is very common in Autism n other Developmental Disorders. 

 

According to National Autism Center, Pica is defines as an abnormal craving for non-food items such as paint, dirt or clay,which can lead to several health problems like poisoning, intestinal damage, dental problems, choking. 

 

 

 

कैसे रोकें बच्चों को??

 

 

आप विभिन्न प्रकार की टेक्निक्स को एप्लाई करके अपने बच्चे की क्रेविंग को कंट्रोल कर सकते है।

 

सबसे प्रथम अपने बच्चे को खाद्य एवं अखाद्य पदार्थों के बारे में बताकर उनका

design fun activities wid edible items (image source- healthymealstoyourdoor)

design fun activities wid edible items (image source- healthymealstoyourdoor)

अंतर समझाएं।

 

बच्चे के सामने विभिन्न प्रकार के edible and non-edible items रखकर उन्हें निर्देशित करें की वे उन्हें अलग अलग छांटे।

 

सही करने पर उनकी प्रशंसा कर उन्हें पुरस्कृत करें।

 

 

आप चाहें तो अपने आसपास के अन्य बच्चों को भी सम्मिलित कर इसे खेल का रूप दे सकते है, जिसमें सही sorting करने पर आप बच्चों को points देकर reward दे सकते है। साथ ही अपने बच्चे को अन्य बच्चों का उदाहरण देकर भी आप उन्हें समझा सकते है।

 

Divert kids to purposeful activities ( image- familservice.org)

Divert kids to purposeful activities ( image- familservice.org)

 

 कई दफा बच्चे अपनी ओर ध्यान आकर्षित करने के उद्देश्य से या अपने आसपास के माहौल से प्रभावित होकर भी उपलब्ध वस्तुओं को कतरने/चबाने लगते हैं।

 

अतः अभिभावकों को चाहिए की वे उनकी इन हरकतों को directly point out करने या टोकने के बजाए बच्चों का ध्यान दूसरी ओर बटॉं दें।

 

 

 

chewy tubes helps to calm down

chewy tubes helps to calm down

चूँकि ऑटिज्म से पीड़ित बच्चों का सेंसरी सिस्टम अन्य बच्चों की अपेक्षा ज्यादा संवेदनशील होता है, इसलिए भी उनमें पिका अधिक रिकार्ड किया गया है।

 

proper oromotor training will soothe sensory sys

proper oromotor training will soothe sensory sys

 

Sensory awareness बढ़ाने के लिए proper brushing, विभिन्न प्रकार के फ्लेवर्ड फूड आइटम्स को चबाना, माऊथ एरिया पर टेपिंग, using chewy tubes, पॉपकार्न चबाना आदि activities आप घर पर करवा सकते हैं। 

 

 

 

 

Pica has been classified into various forms depending upon the consumption of particular material. 

Types of Pica ( image- slidesharecdn)

Types of Pica ( image- slidesharecdn)

 

 

 

 

Pica at times may be difficult to handle, parents often face a lot of probles becuse of it. Somtimes the child chooses pica as a form of “self-soothing” act in order to prevent anxiety or when the child’s arousal reaches to a certain level. Hence, It’s utmost important to keep your kids busy in purposeful and constructive activities. 

 

 

 

Stay Healthy..!!

 

 

Dr. Pooja Pathak 

for Swavalamban Rehab

Understanding Sensory Ataxia

Posted by on Mar 17, 2017 in Swavalamban Blog

Understanding Sensory Ataxia

Have you come across to a person who seems to have poor coordination with his/her bodily movements and balance?? this could be Ataxia.

 

Ataxia या गतिभंग से ग्रसित होने पर व्यक्ति को शारीरिक संतुलन एवं अंगों के बीच के तालमेल को बनाये रखने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है as the parts of Nervous system that controls Movement n Balance are affected.

Ataxia can be both: a symptom of incoordination related to nervous system or it can also belong to specifis hereditary degenerative disorders.

 

 

 

क्यों होता है Ataxia ??

 

मूल रूप से इसे समझने के लिए दो वर्गों में विभाजित किया गया है :

Inherited अर्थात अनुवांशिक जो की माता-पिता में से किसी एक के जीन्स में से आया हो

या Non-Inherited जिसमे शामिल है Head injury, Stroke, Infections, Brain Tumors, Cerebral Palsy, Multiple Sclerosis etc.

साथ ही विटामिन B१२ or E की कमी से भी यह हो सकता है.

आपने कभी न कभी किसी ऐसे व्यक्ति को जरूर देखा होगा जो अँधेरे में या आँखें बंद करने पर अपने आपको बैलेंस नही कर पाता हो, this could be Sensory Ataxia. तांत्रिक तंत्र में आई किन्ही खामियों की वजह से सेंसरी अटैक्सिया होता है, जिसमे affected person के Proprioception sensibility कम/घट जाती है.

 

 

Proprioception is the ability to sense the position, location, orientation and movement of the body and its parts. जहाँ Cerebellar Ataxia में व्यक्ति के लगभग सभी मूवमेंट्स अनियंत्रित होते है वही सेंसरी अटैक्सिया में व्यक्ति की आँखें जब बंद करवाई जाती है अथवा अँधेरे एवं मद्धम रौशनी वाली जगहों पर ही उसमे लक्षण परिलक्षित होते है. कुछ व्यक्तियों में दोनों ही प्रकार के अटैक्सिया के लक्षण होते हैं.

 

 

सेंसरी अटैक्सिया को डाग्नोस करने के लिए रोम्बर्ग टेस्ट ( Romberg Test) किया जाता है, जिसमे the person has to stand with his/her feet touching each other while eyes remain closed foe about a minute. In case of Positive Sign, the person will not be able to maintain his/her balance n swaying or toppling occurs.

 

 

Other Symptoms of Ataxia include:

Improper Balance n Limb Co-ordination

Dysarthria

Gait Abnormalities

Vision/ Hearing Problems

Postural Instability

Nystagmus ( involuntary eye movements)

Spinal Deformity like Scoliosis

Problem while Feeding, Grooming, Buttoning, Hand Writing

Difficulty in Swallowing

Depression

Fatigue

 

 

 

Managing Ataxia:

अटैक्सिया का कोई निश्चित इलाज नही है, परंतु विभिन्न प्रकार की Adaptive Devices and Rehabilitation Therapies के द्धारा व्यक्ति अपने आपको ज्यादा फंक्शनल एवं फिट रख सकता है.

 

 

Occupational Therapy plays a major role in managing a person having Ataxia. Person can perform Activities of Daily Living with much ease n remain Functional by following certain Adaptive n Work Modification Techniques. Also they are trained by applying Ergonomic Principles, thereby causing less Fatigue while performing their respective Daily Chores like Feeding or Writing. Simple Co-ordination activities ensures better Gross n Fine Motor Co-ordination thereby enhancing self-esteem of affected person.

Physical Therapy focuses on maintaining Strength n Mobility

Speech Therapy

Counseling

Proper Dietary Supplements

Splinting/ Orthosis/ Braces to prevent Deformity

Medicines

Although Sensory ataxia can cause several problems, yet it can be managed n affected person will lead a Functional n Productive Life by having an indept understanding of it n by regularly following Therapy Intervention Programmes.

 

 

Stay Healthy..!!!

 

 

 

Dr. P Pooja
for Swavalamban Rehab

Watch Out the Thief of Sight, Protect Your Eyes – Glaucoma

Posted by on Mar 17, 2017 in Swavalamban Blog

Watch Out the Thief of Sight, Protect Your Eyes – Glaucoma
Glaucoma can affect anyone

Glaucoma can affect anyone

Glaucoma (कांचबिंद) एक प्रकार का नेत्र रोग है जिसमे अफ्फेक्टेड व्यक्ति की आँखों की रौशनी धीरे धीरे ख़त्म होती चली जाती है.

 

 

It is a group of eye diseases, caused due to optic nerve damage and can affect one eye or both.

 

 

People with high intraocular presssure are at greater risk of getting it, (intraocular pressure i.e. fluid pressure inside the eyes rises slowly , thereby damaging the optic nerve, and resulting in loss of vision). Acc. to an estimate around 4.5 million people worldwide are having glaucoma, which is expected to increase to 76.0 million in 2020, वहीँ हमारे भारत में glaucoma is the third leading cause of blindness.

 

छोटे बच्चों में कुछ मुख्य लक्षण इस प्रकार हैं:

child’s eyes particularly sensitive to sunlight or a camera flash सूरज की किरणों अथवा तेज चमकीली फ्लैश/कैमरा लाइट के प्रति अतिसंवेदनशीलता

child’s eyes have difficulty adjusting in the dark अँधेरे/कम रौशनी वाली जगहों पर ज्यादा दिक्कत होना

Glaucoma can affect children too!!

Glaucoma can affect children too!!

child complain of headaches and/or eye pain सिरदर्द/ आँखों में दर्द

child blink or/and squeeze his/her eyes often बार-बार आंखें मसलना

child have red eyes all the time आँखें लाल होना/ पानी आना

 

 

 

ग्लूकोमा के अनेक प्रकार होते हैं पर मुख्यतः इसे समझने के लिए दो वर्गों में विभाजित किया गया है –

Dimnished Vision in Glaucoma

Dimnished Vision in Glaucoma 

प्राइमरी – जिसका कोई स्पष्ठ कारण नही है

 

सेकेंडरी – जो किसी अन्य प्रकार के विसुअल डिसऑर्डर के कॉम्प्लीकेशन्स की वजह से हो. बच्चों से लेकर उम्रदराज व्यक्तियों तक किसी को भी कांचबिंद हो सकता है.

 
Glaucoma doesn’t have specific signs n symptoms, hence it’s sometimes difficult for the affected person to realizt that he is having problem in vision, resulting in causing blindness.

 

 

Therefore early diagnosis plays an integral role in reducing the percentage of blindness.

 

Open-angle Glaucoma shows no symptoms other than slow vision loss while

Angle-closure Glaucoma is a medical emergency in which a perso complains of eye pain n visual disturbances.

 

 

Several tests like Visual Acuity Test, Visual Field Test, Dilated Eye Examination, Tonometry are performed to confirm the diagnosis.

 

 

 
अभी तक इसका कोई निश्चित इलाज नही है, पर कुछ विशेष तरह की दवाइयों, eye drops एवं सर्जरी, Laser Trabeculoplasty द्वारा glaucoma के प्रोग्रेशन को स्लो किया जा सकता है.

 

 

Stay Healthy..!!!

 

 

 

Dr. Pooja Pathak

 

जल – नहीँ रहेगा कल!! World Water Day 22 March

Posted by on Mar 17, 2017 in Swavalamban Blog

जल – नहीँ रहेगा कल!! World Water Day 22 March

Water for Life

जल – जीवन की ज्योति, जल बिना जीवन की कल्पना करना भी कठिन है.

न सिर्फ मनुष्यों अपितु समस्त प्राणियों एवं जीव- जंतुओं की उत्तरजीविता (सर्वाइवल) के लिए भी पानी की उपस्थिति अनिवार्य है.

पानी न सिर्फ हमारे कंठ को तृप्त करता है, अपितु पानी पर ही हमारी समस्त भौतिक अवशकताएं.. हमारा भोजन.. हमारी ऊर्जा.. हमारी अर्थव्यवस्था और हमारा इकोसिस्टम आश्रित है.

 

 

 

एक अनुमान के अनुसार आज समस्त विश्व के अनेकों क्षेत्रों में करीब ७४८ करोड़ लोगों को पीने के लिए स्वच्छ जल उपलब्ध नही है. Fetching Drinking water is still a major problem

जिस तीव्र गति से आज बढ़ती हुए आबादी के कारण नगरों का विस्तार होता जा रहा है, जल की उपलब्धता उतनी ही कम होती जा रही है.

एक अध्ययन के अनुसार भारत में प्रति वर्ष 1 लाख से ज़्यादा लोगों की मृत्यु दूषित पानी से होने वाले रोगों की वजह से होती है.

 

 
World Water Day is observed on 22 March to raise awareness among people about the measures taken to ensure water conservation. इस वर्ष की थीम है “Wastewater” जो की हमें पेयजल को संरक्षित करने की और प्रेरित करती है.

 

 

 

रोजाना हमारे शहरों/गांवों/घरों, खेतों/ उद्दयोगों में हजारों-लाखों लीटर पानी उपयोग के बाद प्रदूषित होकर नदियों -तालाबो में मिलता है, जिससे हमारे पर्यावरण को बहुत क्षति पहुचती है. (अगर धरा पर उपलब्ध जल को उसके उपयोगानुसार बांटकर देखा जाये तो पानी का सबसे ज़्यादा उपयोग ७० % कृषि आधारित क्षेत्रों में किया जाता है. साथ ही औद्योगिक एवं ऊर्जा क्षेत्रों में अनुमानतः करीब २०% और घरेलु उपयोग में १० % जल का उपयोग होता है.)

 

 

 

बेतहाशा पानी का उपयोग करने की हम सबकी आदत को अब बदलने की जरुरत है.

Steps to Save Water in Everyday Life

Steps to Save Water in Everyday Life

साथ ही वाटर-रीसाइक्लिंग एक अच्छा विकल्प है जिसके द्वारा हम जल को पुनः उपयोग के योग्य बना सके.

 

साथ ही ज्यादा से ज्यादा वृक्षारोपण, जंगलों/वनों का संरक्षण, प्राकृतिक स्थान के अनुसार सही प्रकार की वनस्पतियों का चुनाव, कृषि कार्यों में आर्गेनिक/ जैविक खाद का उपयोग, ड्रिप इरीगेशन का उपयोग जल संचय के लिए लाभदायक होगा.

 

 

 

अपनी दैनिक दिनचर्या में कुछ परिवर्तन करके हम सभी लोग पानी को बचा सकते है. 

Water Conservation Starts with You

Water Conservation Starts with You

रेनवाटर हार्वेस्टिंग, पुराने कुँओं/ बावड़ियों की साफ़-सफाई, तालाबों/नदियों का गहरीकरण आदि में जनमानस की सक्रिय सहभागिता अति आवश्यक है.

 

 
As countries develop and populations grow, global water demand (in terms of withdrawals) is projected to increase by 55% by 2050. Already by 2025, two thirds of the world’s population could be living in water-stressed countries if current consumption patterns continue.

 
पानी के स्रोतों को स्वच्छ एवं निर्मल बनाये रखना प्रत्येक नागरिक का कर्त्यव है.

 

 

 

Water is For All, Save It

Water is For All, Save It

Take a pledge to Save Water Now…

 

Every Drop Counts…

 

 

 
Dr. Pooja Pathak

for SwavalambanRehab

तुम देना साथ मेरा.. World Mental Health Day 10 Oct

Posted by on Oct 9, 2016 in Swavalamban Blog

तुम देना साथ मेरा.. World Mental Health Day 10 Oct

कौन नही चाहता स्वस्थ रहना, वाकिंग, जॉगिंग, पुश-अप्स, डाइटिंग, जिमिंग,डांसिंग, और न जाने कितनी तरह के जतन करते हैं लोग आजकल  हेल्दी रहने की लिए. पर क्या आपने कभी सोचा है की ये सभी सिर्फ आपके शारीरिक स्वास्थ्य या कहें फिजिकल अपियरेंस पर ही ज्यादा फोकस्ड होता है, कोई भी सामान्य इंसान अपने भौतिक रंग-रूप  एवं फिजिक की प्रॉब्ल्म्स  को खुलकर शेयर कर लेता है, परंतु जब बात आती है साइकोलॉजिकल प्रॉब्ल्म्स की, तब वही इंसान  अपने मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को ओपनली अपने मित्रों या इष्टजनों से डिस्कस करने से भी कतराता है. 

 

 


हमारे भारत में आज भी मानसिक स्वास्थ्य संबंधी विषयों को लेकर कितनी हे भ्रांतियां फैली हुई है. महानगरों जहाँ फिर भी बेहतर हालात है, सबसे ज्यादा ख़राब स्तिथी छोटे शहरों एवं कस्बों की है जहाँ न इन विकारों/विषयों के प्रति लोगों में जागरूकता है और न ही किसी भी प्रकार के परामर्श-केंद्र हैं.



 

 

According to a recent study, it has been estimated that nearly 50 millions Indians r suffering from one or other type of Mental Health related issues/disorders. however there is no exact data as people are too shy to discuss these issues.

 

Since ages, Mental Health issues have many stigmas attached, n people along wid their families have to face a lot of discrimination n isolation due lack of awareness about it’s proper management. 

 

 

 

 

 

 

World Mental Health Day” has been observed every year on 10th of October in order to raise awareness about the importance of mental well-being of a person n to abolish the tabooes associated with mental health disorders. 

 

 

The theme for this year is “Psychological First Aid“.  Just as a person needs priliminary “first-aid” in case of any sort of physical injury, likewise s/he also needs the same help in case of psychosocial disorder. 


 

 

 

This day also encourages the care-givers, families, community n health-workers who also have to keep a strong determination, n perseverence while taking care of the receivers.  

 

 

 

एंड्रोइड, आई-फ़ोन, फेसबुक और 4-G के वर्ल्ड में जहाँ आज सभी चुटकियों में अपने “फ्रेंड्स” से 24×7 कनेक्टेड रहते हैं, साथ ही  तमाम तरह के अत्याधुनिक लाइफ-स्टाइल प्रोडक्ट्स ऐशो-आराम के लिए अवेलेबल हैं, वहीँ लोगो में Anxiety, Depression, Stress, Insomnia, Increased Alcohol n Drug consumption, Psycho-somatic Disorders, Suicidal tendencies, n many more. Some other signs of Stress include bad mood, easily being upset, losing interst in job, frequent headache, palpitations, pain, withdrawl from social gatherings. 

 

 

 

 

 

Mental health related issues not only effect a person, but it also affects his/her whole family, n their community in a broader sense. Although, in case of Early Identification n Proper Medical Intervention along with several Therapies, Relaxation methods n Life-style Modification techniques, a person can lead a fruitful life. 

 

 

 

Always Remember that Awareness can Save many Lives… 

 

 

 

Extend Support, Share your Time with Loved ones…

 
 
 
 
 
( Image for Representation purpose only/ image source – onlyyouforever/google images)

 

 

 

Dr. P Pathak

Swavalamban Rehab

F
F
Twitter
swavalambanrehb on Twitter
58 people follow swavalambanrehb

F
F
F
pinterest button
error: Content is protected !!